Segfault

Random Thoughts of a Scrambled Mind

In search of sleep

सारी रात जाग कर बिताई
नींद ने हर क्षण डांट लगायी
इस नादान को फिर भी समझ ना आई |

अब डर ने हर कोने में है सेंध लगायी
काम के बढ़ते भोझ ने मुझे आँख दिखाई
इसी कारण मुझे नींद नहीं आई |

निरंतर धीरे चलते डब्बे ने भी नज़र चुरायी
घडी की सुइय्याँ दिखा गुहार लगायी
मुझे फिर भी नींद ना आई |

आँखों में है अब सुर्खी छाई
ऐनक भी उतारकर मेज़ पर है टिकाई
पर ज्ञात नहीं की नींद आई या नहीं आई ||

Posted by Rahul on December 22, 2011 | Posted in Random Ramblings | Tagged , | Comment