Dehradun

Posted by Rahul on May 24, 2012 | 2 Comments

खिड़की के बगल में बैठ कर,
इस छनी हुई धूप को देख कर,
इस हलकी सी शीत पवन को महसूस कर,
दूर कहीं गरजते बादलों को सुन कर,
मुझे याद तेरी आती है ।

खिड़की के बगल में बैठ कर,
दूर गगन में पहाड़ों को देख कर,
शीघ्र आने वाली वर्षा को महसूस कर,
चहचहाते पंछियों का संगीत सुन कर,
मुझे याद तेरी आती है ।

खिड़की के बगल में बैठ कर,
हर ओर लहराहते हुए वृक्षों को देख कर,
इस सुखद एकांत को महसूस कर,
और इस को कभी कभी भंग करने वाली मोटर कार की आवाज सुन कर,
मुझे याद तेरी आती है ।

बहुत समय गुज़र गया मेरे दोस्त,
जल्द ही वापस बुला ले,
कहीं ये यादें धुंधला ना जायें ।

Posted in Random Ramblings | Tagged , |

2 responses to “Dehradun”

  1. Swati says:

    hey ,
    I am also from Dehradun and will be soon in Zurich. It is really a heartwarming poem you have written here. fantastic job and thanks for sharing!
    Cheers!
    Swati

Leave a Reply to Swati Cancel reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.